मंगलवार, 29 जनवरी 2008

बचपन का वह कॉमिक्स-प्रेम.....

आज ब्लॉग-दर-ब्लॉग घूम रहा था कि अचानक एक "चिट्ठे" पर नजर पड़ी, जिसके चिट्ठाकार भाई प्रतीक ने चाचा चौधरी के कॉमिक्स पर बड़ा ही रोचक एक लेख लिखा है, उसे पढ़कर मुझे भी अपने बाल्यावस्था से किशोरावस्था तक के दिनों के "कॉमिक्स-प्रेम" की याद आ गई. सोचा कि आप सबों से उन दिनों की इस याद को बाँटने में हर्ज क्या है !
उन दिनों कॉमिक्स के जादू में पड़कर पता नहीं कितनी बार माँ-पिताजी से पिटा होऊँगा, बता नहीं सकता. पिताजी हम भाई-बहनों को पढ़ाते-२ बीच में कुछ देर के लिए भी हटे नहीं कि कोर्स की पुस्तकों के बीच में अपने प्यारे "नागराज" को रखकर उससे बातें शुरु कर दी. इस हद तक इन महोदयों से प्यार हो गया था कि शौचालय में भी वे साथ होते.
माँ द्वारा कितनी बार इन चाचा चौधरी, नागराज, सुपर कमांडो ध्रुव, भोकाल इत्यादि का पोस्टमार्टम हुआ, उसके बाद भाड़े पर लाये गये उन महोदयों (कॉमिक्स-पात्र) के मालिक से छुपने-छुपाने का खेल चलता. फिर उसके बाद मौका खोजा जाता कि कब पिताजी अपना कुर्ता खोल कर टाँगे और ५-१० रुपये सफाई के साथ निकाल कर दुकानदार के पैसे चुकाए जाएँ. कभी-कभी तो यह सफाई पिताजी की भुलक्कड़ी प्रवृत्ति से काम कर जाती किन्तु गाहे-बगाहे यह सफाई "दुःखहरण-यन्त्र" का शिकार भी बना देती.

2 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह इसे कहते हैं सच्चा (!) प्यार जिसके लिए बार बार पिताजी से, माता जी से पिटने के बात भी नहीं छूटता । सही ही कहा गया है कि “दुनिया चाहे कुछ भी करले हमको करना प्यार (अपने भोकाल, नागराज, ध्रुव आदि से)... प्यार क्या तो डरना क्या..ऽ..ऽ..ऽ...” । इसकी दूसरी लाइन का नहीं अनुसरण किया । कॉमिक वाले से छिपे फिरते थे । अरे अकड़ कर कहना था कि “कॉमिक ही तो ली है, दे देंगे पैसे, कहीं भागे तो नहीं जा रहे हैं” तब जाकर गाना और फिट पड़ता ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. कितना अच्छा होता कि आप अपने भोकाली, नागराजी, ध्रुवीय प्यार को इतना ऊँचा उठाते कि उनकी कॉमिक्स में आपका भी नाम होता, कल्पना कीजिए, आपका भी चित्र होता कई ऐक्शन् में, पिताजी से मार खाते हुए, उधारदायी को बेवकूफ़ बनाते हुए, किताबों के बीच से अपने प्यार को छिपाते हुए..... कल्पना कीजिए..... आहाहाहाहा.....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी ही हमारा पुरस्कार है।