बुधवार, 2 सितंबर 2009

ईश्वर के नाम एक शिशु का पत्र....


क बच्चे को किसी कार्यवश पचास रुपए की जरुरत थी. यह राशि उसने अपने माता-पिता से लेकर बड़े भाई-बहनों से भी माँगी किंतु सबने उसे कोई ना कोई बहाना बनाकर देने से मना कर दिया. इस तरह जब काफी दिन बीत गए तब उसने सोचा कि क्यों ना सीधे भगवान्‌ से ही रुपयों के लिए प्रार्थना की जाए. ऐसा निर्णय कर उसने भगवान्‌ के नाम एक पत्र लिखा और उसे पोस्टबॉक्स में डाल दिया. जब "सेवा में, भगवान् जी‌, भारत" नामक पता लिखा हुआ वह पत्र डाकविभाग के कर्मचारियों को मिला, तो उन्होंने यह सोचा कि क्यों ना यह पत्र "भारत के राष्ट्रपति" को मजाक के रूप में अग्रेषित (फॉरवार्ड) कर दिया जाए. जब यह पत्र राष्ट्रपति जी को मिला तो पहले तो खूब हँसी, फिर उन्होने अपने सचिव को आदेश दिया कि पत्र लिखने वाले उस बालक को बीस रुपए भेज दिया जाए. पचास की जगह बीस रुपए भेजने के पीछे उनका उद्देश्य यह था कि वह बच्चा बहुत छोटा है, और इतने ज्यादा पैसे भेजने से लड़के की आदतें खराब हो सकती हैं. खैर, जब बालक को बीस रुपए मिले तो वह काफी खुश हुआ, और उसने निर्णय किया कि भगवान्‌ जी के द्वारा पैसे दिए जाने के कारण एक धन्यवादात्मक पत्र भेज देना चाहिए. उस बालक ने जो पत्र भगवान्‌ जी को भेजा, उसे ज्यों का त्यों आप खुद ही पढ़ लें-

"प्रिय भगवान्‌ जी,
पैसा भेजने हेतु आपको बहुत-बहुत धन्यवाद. हालांकि, ध्यातव्य है कि आपने यह पैसा राष्ट्रपति भवन के माध्यम से भेजा है, किंतु उन बेवकूफों ने आपके भेजे गए पैसे में से तीस रुपए टैक्स के रूप में काट लिया है. खैर.....
आपका हीं..."

=======================
[एक मित्र द्वारा प्रेषित मेल का हिंदी भावानुवाद..चित्र स्वनिर्मित है...]

7 टिप्‍पणियां:

  1. कहानि तो अच्छी है मित्र, लेकिन ये कहानि आपके द्वारा रचित तो नही है। अगर आप किसी और की रचना प्रकाशित कर रहें है तो रचनाकार का नाम लिखना ना भुलिए, इस गलती को सुधार लें तो अच्छा है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिथिलेश जी, शायद आपने ध्यान नहीं दिया कि आलेख में सबसे नीचे मैंने क्या लिखा है. आपके सूचनार्थ उस वाक्य को पुनः यहां प्रतिलिपित कर रहा हूं-
    "[एक मित्र द्वारा प्रेषित मेल का हिंदी भावानुवाद..चित्र स्वनिर्मित है...]"

    चूंकि, इस आलेख का अंग्रेजी संस्करण मेरे एक मित्र ने मेल से भेजा था, और उसे भी कहीं से अग्रेषण द्वारा ही मिला था, तो इस कारण मूल अंग्रेजी रूप के लेखक का नाम ना मुझे मालूम है, और ना ही मेरे मित्र को. यदि आपको पता हो तो बताने की कृपा करें....

    उत्तर देंहटाएं
  3. भाया पत्र पढ़कर बहुत मजा आया

    उत्तर देंहटाएं
  4. हा हा!! बच्चा तो घणा समझदार निकला!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. भाई बहुत नीमन. खुब मजा आइल.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणी ही हमारा पुरस्कार है।